बागेश्वर धाम सरकार धीरेन्द्र शास्त्री जी के जीवन परिचय की रोचक बातें

बागेश्वर धाम सरकार के पीठाधीश्वर पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण जी महाराज का जीवन परिचय, धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री जी का जीवन परिचय, Biography of Dhirendra Krishna Shastri, Interesting facts about the biography of Bageshwar Dham Sarkar Dhirendra Shastri ( All Queries Covered )

नमस्कार दोस्तों,

जैसा कि आप जानते हैं देश और दुनिया में बहुत ही तेजी से नाम कमाने वाले और सनातन धर्म का प्रचार करने वाले मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के प्रसिद्ध संत पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री रोजाना किसी न किसी वीडियो में वायरल होते रहते हैं | पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री अपने द्वारा लगाए जाने वाले दिव्य दरबार के कारण प्रसिद्ध है और इसी के लिए वे जाने जाते हैं | आज हम पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के जीवन परिचय के बारे में चर्चा करने वाले हैं | आपको पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री की जीवन में होने वाली सभी घटनाओं से प्रेरित कराया जाएगा |

मध्य प्रदेश का प्रसिद्ध तीर्थ स्थलश्री बागेश्वर धाम
स्थितिमध्य प्रदेश का छतरपुर जिला
बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वरपंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण जी महाराज
बागेश्वर धाम के सन्यासी बाबाबागेश्वर धाम मे दिव्य दरबार लगाने वाले पहले संत
धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के मित्रशेख मुबारक
विवाह——————-
पिताजीरामकृपाल गर्ग
माता जीसरोज गर्ग
जन्म4 जुलाई 1996 ग्राम गढ़ा
धीरेंद्र कृष्ण शास्त्रीसनातनी धर्म प्रचारक और कथा वाचक
गुरुभगवान दास गर्ग
अवार्डसंत शिरोमणि, वर्ल्ड बुक ऑफ लंदन, वर्ल्ड बुक ऑफ यूरोप
स्थापना1986

🔲 धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी का जन्म स्थान-

  • 🛑धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी का जन्म मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के गांव ग्राम गढा मे हुआ है |
  • 🛑धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी का जन्म 4 जुलाई 1996 को हुआ था |

🔲 धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी की प्रारंभिक शिक्षा-

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी की प्रारंभिक शिक्षा गांव में हुई उन्होंने 8वी तक की शिक्षा अपने ही गांव में पास की | 8वी कक्षा के बाद भी अपने चाचा जी के पास गंज चले गए वहां से उन्होंने कक्षा 12वीं की परीक्षा पास की | कभी -कभी वे अपने गांव से 5 किलोमीटर की यात्रा पैदल तय करके गंज स्कूल पढ़ने जाया करते थे |

  • ☛☛धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री बचपन से ही अपने परम पूज्य सन्यासी बाबा जो बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर हुआ करते थे उनसे शास्त्रों का और कथाओं का ज्ञान भी हासिल किया करते थे |

🔲 धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी की मित्रता-

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी की मित्रता के बारे में बड़ी ही रोचक कहानी सुनने को मिलती है | जहां एक तरफ धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री हिंदू धर्म से एक प्रसिद्ध कथा वाचक और धर्म प्रचारक हैं वही दूसरी ओर उनकी एक मित्र मुस्लिम समुदाय से संबंध रखते हैं |

दोस्तों एक समय था जब बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी को पैसों की बहुत ज्यादा आवश्यकता थी| उनको अपनी बहन की शादी करनी थी और उनके पास पैसे नहीं थे ऐसे में उनके एक मित्र मुस्लिम समुदाय से संबंध रखते हैं उन्होंने बेहद मदद की थी | अपने मित्र की मदद को और मित्रता के इस संबंध को वे कभी-कभी अपनी कथा में लोगों को सुनाया करते हैं |

धीरेंद्र शास्त्री जी के मित्र शेख मुबारक-

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के द्वारा कथा के दौरान बताया जाता है कि उन्होंने अपने मित्र एक मुबारक पर एक समय ₹20000 उधार के तौर पर लिए थे | धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के जीवन के यह है वह दिन थे जब भी पैसों के लिए बहुत तंगी झेल रहे थे | धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी ने अपनी बहन की शादी अपने मित्र के सहयोग से बड़े ही धूमधाम से कर दी | वीरेंद्र शास्त्री और शेख मुबारक की है मित्रता लोगों को बहुत भा रही है लोग उनकी मित्रता से बहुत प्रेरित भी होते हैं |

पूरा नामपंडित श्री धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री 
गुरुसेतु
जन्म स्थानग्राम गढ़ा ,छतरपुर (मध्य प्रदेश)
जन्म10 जुलाई 1996
वैवाहिक स्थितिअविवाहित
लक्ष्यमानव कल्याण
परिवारकुल 5 लोग माता-पिता सहित एक भाई एक बहन
मंदिरचंदेल कालीन 
बागेश्वर धाम मंदिरभगवान श्री हनुमान जी के लिए समर्पित

🔲 धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी की गरीबी-

दोस्तों धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी का जीवन बहुत ही दुखों से भरा हुआ जीवन था हालांकि बालाजी महाराज की ऐसी कृपा हुई कि आज उन्हें देश और दुनिया जानती है | बालाजी महाराज की कृपा से धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने हर वह मुकाम हासिल किया है जो भी करना चाहते थे |

  • 🛑दोस्तों धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के पास एक समय पहनने के लिए सुंदर कपड़े भी नहीं हुआ करते थे जिस कारण से उन्हें लोग गांव में निमंत्रण भी नहीं बुलाया करते थे |

बागेश्वर धाम प्रमुख – धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री : जीवनी Biography ↔️↔️↔️

🔲 धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के दादाजी-

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी से पहले उनके दादाजी बागेश्वर धाम में इसी प्रकार दिव्य दरबार लगाते थे और लोगों की समस्याएं दूर करते थे|
धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के गुरु जिनको भगवान दास गर्ग के नाम से भी जाना जाता था वे निर्मोही अखाड़े से जुड़े हुए थे जो चित्रकूट से संबंध रखता है | पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी ने 9 वर्ष की अवस्था से ही बागेश्वर धाम सरकार की सेवा प्रारंभ कर दी थी वे अपने परम पूज्य दादा जी के साथ मंदिर भी जाया करते थे |

🔲 धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी का परिवार-

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी अकेले नहीं हैं उनका एक छोटा भाई भी है और उनकी एक बहन भी है जिसकी वर्तमान समय में शादी हो चुकी है | धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी की बहन से जुड़ा हुआ एक किस्सा बहुत ही दिलचस्प है |

  • ✔धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के पिताजी का नाम श्री राम कृपाल गर्ग और माता जी का नाम सरोज गर्ग बताया जाता है |
  • ✔पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी अपने परम पूज्य दादा जी को ही परम गुरु माना करते थे,
  • ✔ धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी ने अपने दादाजी से ही रामायण और भागवत गीता का ज्ञान अध्ययन सीखा है |
⚫️बागेश्वर धाम की महिमा : घर बैठे अर्जी कैसे लगाएं? टोकन कब मिलेगा?क्लिक करें
⚫️Bageshwar Dham के नाम पर Fraud धोखाधड़ी : बागेश्वर धाम गढ़ागंजक्लिक करें
⚫️Bageshwar Dham Contact No : Bageshwar Dham Toll free noक्लिक करें
⚫️बागेश्वर धाम कहाँ है? : Bageshwar Dham Kahan Hai? – जाने का रास्ताक्लिक करें
⚫️बागेश्वर धाम : कथा भजन – Bageshwar Dham Katha Bhajan Chhatarpurक्लिक करें
⚫️छतरपुर, पन्ना, दमोह एवं सागर से बागेश्वर धाम गढ़ा की दूरीक्लिक करें
⚫️छतरपुर से बागेश्वर धाम गढ़ा की दूरीक्लिक करें
⚫️बागेश्वर धाम मध्यप्रदेश प्रसिद्ध धार्मिक स्थल – Bageshwar Dham MPक्लिक करें

🔲 धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री की वृंदावन यात्रा-

  • ⬤दोस्तों धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के जीवन में बहुत ही कठिनाई भरी पड़ी थी एक समय था जब वे वृंदावन जाना चाहते थे और वहां पर कर्मकांड धर्म ग्रंथ देखना चाहते थे |
  • ⬤बताया जाता है कि उनके पिताजी बचपन में बहुत गरीब हुआ करते थे उनके पिताजी के पास इतने पैसे तक नहीं की कि वे अपने बेटे को वृंदावन भेज सकें | कहां जाता है कि उनके पिताजी के पास उसे समय ₹1000 तक नहीं थे जिस कारण से वे वृंदावन नहीं जा पाए|
  • ⬤कहा जाता है कि धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के पिताजी उस समय पूरे गांव में पैसे कई लोगों से उधार लिए बैठे थे ऐसे में उनके बारे में लोग यह सोचते थे कि यह बहुत गरीब है पैसे दे नहीं पाएगा जिस कारण से उनको उधार पैसे भी नहीं मिले थे |
दिव्य दरबार की प्रेरणापरम पूज्य दादाश्री सन्यासी बाबा
साधनाअज्ञातवास
बागेश्वर धाम के भक्तों की संख्यादेश और दुनिया सहित लाखों लोग
संकल्पसनातन धर्म का प्रचार प्रसार और जनकल्याण
दिव्य दरबार का समयशुरुआत में मंगलवार और शनिवार को आयोजित होता था | वर्तमान में पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण जी शास्त्री के द्वारा किसी भी दिन आयोजित हो जाता है | 

🔲 धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का बचपन कैसे बीता??

दोस्तों पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के बारे में कहा जाता है कि यह बचपन में बहुत गरीब हुआ करते थे | इस बात की पुष्टि पंडित श्री धीरेंद्र कृष्णा शास्त्री जी ने एक कथा के दौरान भी लोगों को बताया है | उन्होंने उस कथा में बताया था कि एक समय था जब गरीबी हमारे ऊपर एकदम कहर ढा रही थी | गरीबी औसत समय पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के पास कुछ इस तरीके से थी कि उनके पास खाने तक के लिए राशन नहीं हुआ करता था |

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के पिताजी कुछ करते नहीं थे वे पूरे गांव से दान दक्षिणा मंगाकर घर का पालन पोषण करते थे | धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी ने भी धीरे-धीरे बचपन से ही नारायण कथा बांचना शुरू कर दिया था | नारायण कथा सुनाकर लोगों से जो भी पैसे मिलते थे उनसे यह अपना घर चलाते थे | धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी का बचपन बहुत ही संघर्षमय रहा है |

🔲 धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी की पत्नी-

  • 🛑दोस्तों पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी का अभी तक विवाह नहीं हुआ है | वर्तमान समय में मार्च 2022 के समय कई लोगों ने उनके विवाह की अफवाह फैला दी थी हालांकि अब इसके बारे में कोई गलत जानकारी नहीं बताई जा रही है |
  • 🛑दोस्तों उनकी माता जी का आदेश है कि उनको अपने पुत्र धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी का विवाह करना है | माता के आदेश का पालन करते हुए धीरज कृष्ण शास्त्री जी का कहना है कि वे शादी जरूर करेंगे हालांकि कब करेंगे और किससे करेंगे इसके बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं है |

🔲 क्या है बागेश्वर धाम? – बायोग्राफी धीरेन्द्र शास्त्री जी की

दोस्तों बागेश्वर धाम मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में स्थित है जहां पर भगवान श्री हनुमान जी की एक सिद्ध पीठ स्थित है | भगवान श्री हनुमान जी मंदिर के सामने आपको महादेव जी का भी मंदिर मिल जाएगा | मंदिर के पास में ही आपको परम पूज्य दादाजी श्री सन्यासी बाबा की समाधि भी देखने को मिलती है | बागेश्वर धाम में आपको लाखों की संख्या में नारियल बंधे हुए मिल जायेंगे |

बागेश्वर धाम में नारियल वो लोग बांधते हैं जिनको अपनी अर्जी बालाजी महाराज के समक्ष लगानी होती है | बागेश्वर धाम में नारियल बांधने के लिए लाल कपड़े में नारियल को लेकर अपनी अर्जी को ध्यान में रखते हुए ओम बागेश्वराय नमः मंत्र का जाप करते हुए वहां पर नारियल बांध देना है | वर्तमान समय में बहुत ज्यादा मात्रा में भीड़ एकत्रित होती है जिस कारण से धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के आदेश के अनुसार ही देव दरबार का आयोजन किया जाता है |

बागेश्वर धाम में आयोजित होने वाले दिव्य दरबार का टोकन

बागेश्वर धाम में आयोजित होने वाले दिव्य दरबार का हिस्सा होने के लिए आपको बागेश्वर धाम का टोकन प्राप्त करना होता है |

  • 🛑 बागेश्वर धाम में टोकन प्राप्त करने के लिए बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर पंडित श्री कृष्ण शास्त्री जी के बताए हुए आदेश के अनुसार किसी भी एक दिन बागेश्वर धाम में टोकन जमा किए जाते हैं| टोकन का मतलब है यहां पर किसी एक पर्चे में अपना नाम और मोबाइल नंबर और पता लिखकर बागेश्वर धाम में जमा करना होता है | किस प्रकार के पर्चे बागेश्वर धाम में कार्यरत लोगों के द्वारा जमा किए जाते हैं |
  • 🛑 टोकन जमा होने के बाद जिस दिन भी दिव्य दरबार का आयोजन होगा उस दिन की तारीख बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के द्वारा सोशल मीडिया के माध्यम से बता दी जाती है |

  • 🛑 दिव्य दरबार का आयोजन होने से पहले एक लिस्ट जारी की जाती है जिसमें लोगों के नाम आ जाते हैं उनके मोबाइल नंबर के माध्यम से उनको सूचित कर दिया जाता है |
  • 🛑 दिव्य दरबार में श्री धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के द्वारा लोगों के मन में उठने वाले प्रश्नों को और उनकी समस्याओं को बिना बताए ही एक पर्ची पर लिख दिया जाता है | उनका यही अंदाज और यही सिद्धि लोगों का दिल जीत लेती है | वे समस्याओं का समाधान भी करते हैं और लोगों को आशीर्वाद भी |
  • 🛑 बालाजी महाराज की कृपा पाने के लिए उनके द्वारा बताया जाता है कि बागेश्वर धाम की पेशी करना अनिवार्य है | बागेश्वर धाम की पेशी के लिए पहले मंगलवार और शनिवार को निश्चित किया गया था परंतु वर्तमान समय में लाखों की संख्या में भीड़ हो जाने के कारण प्रतिदिन दरवाजे खुले रहते हैं | बागेश्वर धाम की पेशी करने के लिए आपके लिए हर दिन उपयुक्त रहेगा ऐसा महाराज का कहना है |
Bageshwar Dham Sarkar token booking

🔲 कैसे जान लेते हैं धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री मन की बात?

दोस्तों लोगों के लिए यह सबसे बड़ी चुनौती बन गया है लोगों को बहुत आश्चर्य हो जाता है कि हमारे बिना बताए ही हमारे मन में क्या चल रहा है ? हम क्या प्रश्न करने वाले हैं? धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी महाराज को कैसे पता चल जाता है ?

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री मन की बात कैसे जानते हैं इसके बारे में कई पत्रकारों ने उनसे सवाल भी किया है जिसके बारे में धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी ने जवाब दिया है कि वे श्री बालाजी महाराज के बताए आदेश के अनुसार ही लोगों के मन में उठने वाले प्रश्नों को पर्ची पर लिख देते हैं |

कई मीडिया वालों ने उनसे सवाल किया और एक बात की जांच पड़ताल की कि आखिर वे कैसे किसी भी अनजान व्यक्ति का पर्चा लिख देते हैं और जब बाद में उनके द्वारा किसी भी व्यक्ति को बुला लिया जाता है तो वह पर्चा भी उसी व्यक्ति का निकलता है | इसके बारे में पत्रकारों ने बहुत कोशिश की हालांकि इसकी जांच नहीं कर पाए यह एक रहस्य ही रह गया | धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के द्वारा लिखे जाने वाली पर्ची पर समस्याओं के साथ उनका समाधान भी लिख दिया जाता है |

  • ☑️ धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री को बचपन से ही भगवान श्री बालाजी महाराज की सिद्धि की अनुभूति होने लगी थी |
  • ☑️ वे बचपन से ही अपने दादाजी के साथ मंदिर जाया करते थे और बालाजी महाराज की सेवा करते थे |
☑️बागेश्वर धाम में टोकन की व्यवस्था – Bageshwar Dham WikipediaClick Here
☑️बागेश्वर धाम का इतिहास History Of Bageshwar Dham Chhatarpur MPClick Here
☑️बागेश्वर धाम शायरी स्टेटस | Bageshwar Dham Status ShayariClick Here
☑️बागेश्वर धाम महाराज का पता : बागेश्वर धाम का मोबाइल नंबरClick Here
☑️बागेश्वर धाम महाराज का नाम : बागेश्वर धाम महाराज की शादीClick Here
☑️बागेश्वर धाम और खजुराहो प्रसिद्ध धार्मिक एवं पर्यटन स्थलClick Here

🔲 दूसरे शहरों में दिव्य दरबार –

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री कथा करने के लिए जिस भी शहर में जाते वहां पर दिव्य दरबार का आयोजन कर देते हैं ताकि लोगों को आने जाने में भी समस्या ना हो और दिव्य दरबार का लाभ मिल सके | दोस्तों जानकारी के लिए आपको बता दिया जाए कि देव दरबार पूरी तरीके से नि:शुल्क होता है इसके लिए कोई भी शुल्क नहीं होता |

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी का कहना है कि वे बागेश्वर धाम में लाखों लोगों का पर्चा नहीं बना सकते इसीलिए वे जहां पर भी कथा करते वहां पर दिव्य दरबार का आयोजन जरूर करते हैं |

  • ☑️ धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के द्वारा शहर में कथा की जाती है उनसे जो भी राशि प्राप्त होती है और दिव्य दरबार से जो भी राशि प्राप्त होती बागेश्वर धाम में गरीब कन्याओं का विवाह कर देते हैं |
  • ☑️ बागेश्वर धाम में धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के द्वारा प्रतिदिन निशुल्क भंडारा आयोजित होता है | भंडारे में पूड़ी सब्जी के साथ है अन्य भोजन सामग्री भी उपलब्ध होती है|

🔲 इंग्लैंड की यात्रा-

हाल ही में बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी ने इंग्लैंड की यात्रा पूरी की है और वहां पर ब्रिटिश सांसदों से मुलाकात की है | इंग्लैंड में रहने वाले लोगों के बीच उन्होंने अपनी राम कथा प्रस्तुत की है और हनुमान जी की भक्ति के लिए प्रेरित किया | विदेश में कथा करने के बाद देश दुनिया में उनकी चर्चा हमेशा बनी रहती है |

बागेश्वर धाम सरकार धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री जी का जीवन परिचय FAQ’s

  • ▶️ बागेश्वर धाम में किस देवता का मंदिर है?
  • बागेश्वर धाम में भगवान श्री हनुमान जी की सिद्ध पीठ स्थित है |
  • ▶️ धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के गुरु का नाम क्या है?
  • धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी के गुरु का नाम भगवान दास गर्ग बताया जाता है इनके गुरु का संबंध चित्रकूट से था |
  • ▶️ धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी की उम्र क्या है?
  • धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी की उम्र लगभग 25 वर्ष हो चुकी है उनका जन्म 4 जुलाई 1996 को हुआ था |
  • ▶️ धीरेंद्र सिंह शास्त्री कौन सी कथा सुनाते हैं?
  • धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी राम कथा और भागवत कथा सुनाते हैं |
  • ▶️ धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी ने कहां तक पढ़ाई की है?
  • धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी ने कक्षा 12वीं तक की पढ़ाई पूरी की है और इसके बाद उन्होंने प्राइवेट b.a. ग्रेजुएशन किया है|
  • ▶️ धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री कौन है?
  • धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर हैं एक प्रसिद्ध धर्म प्रचारक और कथावाचक हैं |

Leave a Comment