हाथ, पांव, पीठ एवं जांघों की मांसपेशियाँ – ब्यूटी एंड वैलनेस फ्री कोर्स 2024

नमस्कार दोस्तों आज मैं आप लोगों को जानकारी दूंगी शरीर की मांसपेशियों के बारे में कौन सी मांसपेशी किस अंग के लिए बहुत जरूरी होती है।
1. मांसपेशियां जो सिर की ओर चलती हैं :
2. ऊपरी बांहों और हाथों की मांसपेशी
3. हाथ की मांसपेशियां
4. पीठ की मांसपेशियां
5. जांघों की मांसपेशियां
6. निचले पैर की मांसपेशियां
7. पैर और टखने की मांसपेशियां

मालिश तकनीकों के विवरणों में जाने से पहले सिर की ओर जाने में मदद करने वाली मांसपेशियों के बारे में जानना आवश्यक है। नीचे की गई चर्चा सिर की मांसपेशियों की स्थिति के बारे में है और जिसे वे नियंत्रित होती हैं।

एपिक्रेनियस –  इस  मांसपेशी को ओसीपिटो-फ्रंटेलिस भी कहा जाता है। यह चौड़ी मांसपेशी होती है जो खोपडी को ऊपर से कवर करती है। एपिक्रेनियस के दो हिस्से होते हैं : ओसीपिटेलिस और फ्रंटेलिस

ओसिपिटेलिस  –  ओसिपिटेलिस एपिक्रेनियस का पिछला हिस्सा बनाता है। यह मांसपेशी सिर को पीछे की ओर मुड़ने में मदद करती है।

फ्रंटेलिस  –  यह एपिक्रेनियस का अगला भाग बनाती है। फ्रंटेलिस भौंहें मलमइतवूद्ध उठाने में, खोपड़ी को आगे निकालने में और सिर के आस-पास सिकुड़न पैदा करने में मदद करता है।

एपोन्यूरोसिस –  यह मांसपेशी ओसिपिटेलिस और फ्रंटलिस को जोड़ती है।

ऊपरी बांहों और हाथों की मांसपेशी :


ऊपरी बांहों में ये मुख्य मांसपेशियां होती हैं :

बाइसेप्स  –  ऊपरी बांह के सामने और अंदर की तरफ उठान बनाने वाली मांसपेशी। यह बाजू को उठाने में, कोहनी को मोड़ने में और हथेलियों को बाहर की ओर मोड़ने में मदद करती है।

डेल्टॉयड  –  कंधे के जोड़ को कवर करने वाली बड़ी त्रिकोणीय मांसपेशियां जो बांह को बाहर की तरफ और शरीर की तरफ बढ़ाती हैं।

ट्राइसेप्स –  यह बड़ी मांसपेशी होती है जो ऊपरी बांह के पूरे पिछले हिस्से को कवर करती है और बाजू तक बढ़ती है।

एक्सटेंसर्स  –  मांसपेशियां जो कलाई, हाथ और उंगलियों को सीधी रेखा में सीधे बनाती हैं।

सुपिनेटर : भुजा की मांसपेशियां जो बाहरी त्रिज्या की तरफ और हथेली के ऊपर की तरफ घूमती हैं।

हाथ की मांसपेशियां :

हाथ शरीर के सबसे जटिल भागों में से एक होता है, जो जोड़ से जोड़ तक ढकी हुई कई छोटी मांसपेशियां हाथों और अंगुलियों को खोलने और बंद करने के लिए लचीलापन और ताकत प्रदान करती है। हाथों की महत्वपूर्ण मांसपेशियां होती हैं

एब्डक्टर्स  –  अंगुलियों को अलग करने वाली मांसपेशियां।

डक्टर्स  – हर अंगुली के आधार पर मांसपेशियां जो अंगुलियों को एक साथ खींचती हैं।

पोनेंट मसल्स  – हथेली की मांसपेशियां जो अंगूठे को अंगुलियों की ओर लाने में काम करती हैं।

पीठ की मांसपेशियां
  निम्नलिखित मांसपेशियां पीठ पर होती हैं

लाटिस्सिमस डोरसी  –  यह बड़ी, सपाट सतही मांसपेशी होती है जो गर्दन के पीछे और पीठ के ऊपरी और मध्यम हिस्से को कवर करती है और कंधे की हड्डी और हाथ की लोचदार गतिविधि को नियंत्रित करती है।

ट्रैपेजियस  – मांसपेशियां जो गर्दन के पीछे और पीठ के ऊपरी और मध्यम हिस्से को कवर करती है। यह बांह को घुमाने और लोचदार गतिविधियों को नियंत्रित करने में मदद करती है।

जांघों की मांसपेशियां

जांघ में निम्नलिखित मांसपेशियां होती है :

हैमस्ट्रिग  –  यह जांघ के पीछे होती है। हैमस्ट्रिग घुटने को मोड़ने और कूल्हे को बढ़ाने में मदद करता

‘एडक्टर्स  –  यह जांघ के अंदर की मांसपेशियां होती हैं।

गैस्ट्रोक्नेमियस  – यह दो पिंडली की मांसपेशियों के सबसे ऊपर होती हैं। गैस्ट्रोक्नेमियस हर कदम के लिए पैर धकेलने की शक्ति प्रदान करती है।

सोलियस  –  यह पिंडली की मांसपेशियां होती हैं जो गैस्ट्रोक्नेमियस के तले पर काम करती है और बिछी होती है।

टिबियालिस एंटेरियर   –  यह मांसपेशियां पिंडली को कवर करती है और घुटने की ओर पैर को चलाने के लिए टखने को मोड़ने में मदद करती है। निच गईले पैर की मांसपेशियां

निचले पैरों में निम्नलिखित मांसपेशियां होती हैं :

गैस्ट्रोक्नेमियस –  यह जांघ की हड्डी के लेटरल और मीडियल कॉन्डायल से निकलती है और एड़ी की हड्डी पर स्नायुजाल से चलती है। गैस्ट्रोक्नेमियस घुटने को मोड़ने और पैर के तल को मोड़ने में मदद करती है।

सोलियस  –  यह टिबिया और फीबुला से निकलती है और एड़ी की हड्डी (calcaneum) पर स्नायुजाल (Archilles tendon) से गुजरती है। सोलियस पैर के तल (plantar) (plantar) के मोड़ने की गतिविधि (flexion में मदद करती है। movement)

पेरोनियस लॉन्गस   –  यह मांसपेशी फीबुला से निकलती है। यह पैर के तल को मोड़ती और पैर को पलटती है।

टिबियालिस एंटेरियर  –  जैसा कि नाम से पता चलता है, यह टिबिया से निकलती है। यह पैर को पलटती और डोरसी फ्लेक्स करती है।

एक्सटेन्सर डिजिटोरम लॉन्गस –  यह मांसपेशियां टिबिया और फीबुला से शुरू होती है और पंजे जवमेद्ध को बढ़ाने में और पैर को डोरसी फ्लेक्स करने में मदद करती है।

स्नायुजाल (एच्लीस टेंडन) –  यह मांसपेशी गैस्ट्रोसेंमियस और सोलियस से जुड़ी हुई होती है। यह पैर उठाने में मदद करती है |

पैर और टखने की मांसपेशियां
पैर और टखने में निम्न मांसपेशियां होती हैं

फ्लेक्सर डिजिटोरम लॉन्गस –  यह मांसपेशियां एड़ी
की हड्डी बंसबंदमनउद्ध से शुरू होती है और पंजे जवमेद्ध के चार लेटरल से गुजरती हैं। यह पैर को बढ़ाने में मदद करती है।

फ्लेक्सर हॉलुसिस लॉन्गस   –  यह मांसपेशी एड़ी की
हड्डी बंसबंदमनउद्ध से निकलती है और पैर के अंगूठे के आधार से चलाती है।

ल्यूमब्रिकल्स –  यह पंजे जवमेद्ध की लॉन्ग फ्लेक्सर
मांसपेशियों की कण्डरा से शुरू होती है। यह मांसपेशी प्रॉक्सिमल फैलेंज को मोड़ने में मदद करती है।

Leave a Comment